Tuesday, June 18, 2024
spot_img
Homeउत्तराखंडBreaking News: 100 करोड़ की जीएसटी चोरी, आईटीसी और जीएसटी विभाग की...

Breaking News: 100 करोड़ की जीएसटी चोरी, आईटीसी और जीएसटी विभाग की कड़ी कार्रवाई- सूचना विभाग से हुआ 18 करोड़ का भुगतान.जाने पूरा मामला – RAIBAR PAHAD KA


शेयर करें

फर्जी फर्मों के खिलाफ न्यायिक कार्रवाई: आईटीसी और जीएसटी विभाग की कड़ी कार्रवाई
फर्जी फर्मों को खोलकर आईटीसी का लाभ लेकर करोड़ों के वारे न्यारे करने वालो पर पुलिस एवम जीएसटी विभाग जीएसटी जलसाजों पर नकेल कसने को तैयार हो चुकी है।

क्या है पूरा मामला

सहारनपुर निवासी मोहम्मद अकरम ने विगत कुछ दिनों पहले एसएसपी देहरादून को प्रार्थना पत्र देकर बताया था कि देहरादून में एक नटवरलाल द्वारा लगभग 27 फर्म अपने वह अपने परिवार वालों के नाम खोलकर उसमें करोड़ों रुपए का लेनदेन किया है जिसमें भारत सरकार एवं राज्य सरकार को करोड़ो रुपए का चूना लगाया गया।

जीएसटी विभाग ने की कार्रवाई की शुरुआत

एसएसपी देहरादून ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच को सीओ सिटी नीरज सेमवाल को सौंप दी गई एवं जीएसटी विभाग को इस जांच की भनक लगी। जीएसटी विभाग ने भी अपने स्तर से ऐसे जालसाजों पर नजर रखनी शुरू की।

जीएसटी विभाग की बड़ी कार्रवाई

आज जीएसटी विभाग की टीम ने फर्जी बिलों से करोडों का भुगतान प्राप्त करने वाली फर्म के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। फर्म के कोई दफ्तर तो नहीं मिला, लेकिन फर्म संचालक के घर पर जीएसटी की टीम ने छापा मारते हुए लाखों की गफबड़ी पकड़ी। जबकि लाखों रुपये अब ब्याज समेत वसूले जाने बाकी है। इसके साथ ही उत्तराखण्ड में जीएसटी चोरी में लिप्त फर्म पर एसजीएसटी ने बड़ी कार्रवाई की है।

क्या रहे जांच के परिणाम

जांच पर पाया गया कि फर्म ने सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग, उत्तराखण्ड से लगभग ₹ 18 करोड़ का भुगतान प्राप्त किया है तथा उसके द्वारा जीएसटी चोरी के उद्देश्य से दिल्ली की कुछ फर्मों से बोगस इन्वाईस प्राप्त किये गये हैं।

कार्रवाई का पूरा निष्कर्ष

इस तरह की कार्रवाई से फर्जी तरीके से चल रही फर्म संचालकों में हड़कंप मचा है और यह एक महत्वपूर्ण कदम है जो सुनिश्चित करेगा कि ऐसे धप्रवृत्तियों को रोका जाए और विधिक कार्रवाई के माध्यम से विपरीत कृत्यों को सजा दी जाए। इस घटना ने सामाजिक और आर्थिक रूप से गहरे प्रभाव किए हैं। व्यापारिक समुदाय में यह एक संकट के रूप में देखा गया है, और साथ ही सरकारी निकायों के विश्वास को भी धकेला गया है।

इस मामले में संज्ञेय है कि सरकारी विभागों की विशेषता और संरचना को बदलने की जरूरत है ताकि ऐसे तत्वों को पहचाना और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके। न केवल इस घटना के खिलाफ कठोरता दिखानी चाहिए, बल्कि भविष्य में इस तरह की गतिविधियों को रोकने के लिए प्रोत्साहन भी मिलना चाहिए।

इसके अलावा, लोगों को शिक्षित करने और उन्हें ऐसे धोखाधड़ी के खिलाफ सतर्क रहने के लिए जागरूक किया जाना चाहिए। विभिन्न साधारण लोगों को वित्तीय और कानूनी प्रक्रियाओं के बारे में जागरूक करने के लिए शिक्षा कार्यक्रमों की आवश्यकता है ताकि वे खुद को सुरक्षित रख सकें।

इस घटना का समाधान न केवल कानूनी होना चाहिए, बल्कि एक सकारात्मक सामाजिक बदलाव की भी जरूरत है। एक सामूहिक स्तर पर, सामाजिक सद्भावना, ईमानदारी, और न्याय के प्रति समर्थन को बढ़ावा देने के लिए सभी स्तरों पर साझेदारी की आवश्यकता है।

अंत में, सरकार, पुलिस, और अन्य संगठनों को सही और निष्पक्ष तरीके से काम करना चाहिए ताकि लोग उन पर विश्वास कर सकें और समाज में विश्वास बना रहे।

इस प्रकार, फर्जी फर्मों के खिलाफ आईटीसी और जीएसटी विभाग की कड़ी कार्रवाई न केवल न्याय की विजय को प्रमोट करती है, बल्कि यह समाज में विश्वास और न्याय के प्रति विश्वास को भी स्थापित करती है।

About Post Author



Post Views:
1

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments