Home उत्तराखंड स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर राजेश कुमार जैसे हों अधिकारी तो अवश्य हारेगी डेंगू की बीमारी, स्वैच्छिक रक्तदान कर मरीजों की जान बचाना हम सब की जिम्मेदारी – RAIBAR PAHAD KA

स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर राजेश कुमार जैसे हों अधिकारी तो अवश्य हारेगी डेंगू की बीमारी, स्वैच्छिक रक्तदान कर मरीजों की जान बचाना हम सब की जिम्मेदारी – RAIBAR PAHAD KA

0
स्वास्थ्य सचिव डॉक्टर राजेश कुमार जैसे हों अधिकारी तो अवश्य हारेगी डेंगू की बीमारी, स्वैच्छिक रक्तदान कर मरीजों की जान बचाना हम सब की जिम्मेदारी – RAIBAR PAHAD KA

[ad_1]

शेयर करें

स्वास्थ्य सचिव डॉ आर राजेश कुमार ने रक्तदान कर पेश की नई मिशाल, जनता से की अपील स्वैच्छिक रक्तदान कर मरीजों को जिंदगी बचाने के लिए आगे आएं…

देहरादून। राज्य में डेंगू और वायरल संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा होने के बाद से ब्लड बैंकों में खून की मांग पहले के मुकाबले लगातार बढ़ने लगी है। आम दिनों के मुकाबले ब्लड बैंक में आजकल ज्यादा ब्लड डोनरों की आवश्यकता पड़ रही है। इसी को देखते हुए स्वास्थ्य सचिव डॉ आर राजेश कुमार लगातार आम जनमानस से स्वैच्छिक रक्तदान की अपील कर रहे हैं । स्वास्थ्य सचिव का कहना है कि डेंगू और वायरल बुखार के दौरान जिन मरीजों के प्लेटलेट्स कम हो रहे है उन्हें सबसे ज्यादा ब्लड इश्यू किया जा रहा है। इसके कारण ब्लड की मांग लगातार बढ़ रही है। इसलिए हर स्वस्थ्य व्यक्ति को चाहिए कि वह अपने नजदीकी सरकारी ब्लड बैंक में पहुंचकर रक्तदान करे और दूसरों को भी रक्तदान करने के लिए प्रेरित करे।

वहीं इस सबके बीच स्वास्थ्य सचिव ने एक जरूरतमंद मरीज के लिए रक्तदान कर एक नई मिशाल पेश की है। स्वास्थ्य सचिव द्वारा रक्तदान कर संदेश दिया कि रक्तदान कर अन्य लोग भी खून की कमी के चलते जिंदगी की जंग लड़ रहे मरीजों को जिंदगी बचाने के लिए आगे आएं। हम सबको मिलकर इस लड़ाई को लड़ना होगा। आम जनता से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि स्वैच्छिक रक्तदान को आगे आयें। स्वास्थ्य सचिव ने कहा रक्त प्रकृति का एक ऐसा अनुपम उपहार है जो वैैज्ञानिक तकनीकों के जरिये प्रयोगशालाओं में नहीं तैयार किया जा सकता है। ऐसे में रक्तदान करने से ही गंभीर मरीजों के लिए रक्त की कमी को दूर किया जा सकता है।

स्वास्थ्य सचिव डॉ आर राजेश कुमार ने कहा डेंगू से गंभीर रूप से पीड़ित मरीजों को प्लेटलेट चढ़ाने की जरूरत पड़ रही है। बीमारी के दौरान खून में प्लेटलेट की संख्या 20 हजार से कम होने लगे तो खतरा बढ़ जाता है और आम तौर पर डाक्टर अस्पताल में भर्ती होने का सुझाव देते हैं। ज्यादातर अस्पतालों में ब्लड प्लेटलेट की मांग बहुत बढ़ गई है और उसकी उपलब्धता बहुत कम है। इसकी आपूर्ति के लिए जरूरी है कि हम स्वैच्छिक रक्तदान करें जिससे कि गंभीर रूप से बीमार लोगों की जान बचाई जा सके।

About Post Author



Post Views:
14

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here